Ayodhya News : NTPC Tanda के पांच दिवसीय नाट्य समारोह का शुभारंभ, पहले दिन लखनऊ के सबरंग की प्रस्तुति “इश्क पर जोर नहीं”

Spread the love

महामिद

Tanda News : एनटीपीसी टांडा के आवासीय परिसर स्थित ‘सरगम’आडिटोरियम में एनटीपीसी टांडा एवं उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में पाच दिवसीय संभागीय नाट्य समारोह के आयोजन का शुभारंभ किया गया। नाट्य समारोह कि पहले दिन लखनऊ की सबरंग संस्था की ओर से नाटक “इश्क पर जोर नहीं” की शानदार प्रस्तुति की गई। हास्य मनोरंजन की चासनी में लिपटी हुई कहानी लोगों को बड़ा संदेश दे गई।

पांच दिवसीय नाट्य समारोह का शुभारंभ करते हुए एनटीपीसी टांडा के महाप्रबंधक संजय कुमार

नाट्य समारोह के पहले दिन का नाटक लखनऊ के एक नवाब घराने से जुड़े एक नौजवान के इश्क की कथा पर आधारित रहा। नौजवान अनवर को नवाब खानदान की बेटी रोशनी से इश्क हो जाता है लेकिन रोशनी जब यतीम होती है तो उसकी परवरिश करने वाले हकीम बब्बन खान खुद उससे इश्क फरमाने लगते हैं । नवाब खानदान की बेटी रोशनी हकीम बब्बन खान की एक तरफा इश्क से बचती रहती है। इसी बीच भेष बदलकर नवाब अनवर हकीम बब्बन खाकर घर पहुंच जाते हैं। हकीम बब्बन खान रोशनी से निकाह की तैयारी तो करते हैं लेकिन यह निकाह रोशनी के हमसफर नवाब अनवर से हो जाता है। लखनऊ की जानी-मानी नाट्य संस्था सबरग की बेहतरीन प्रस्तुति का निर्देशन अशोक सिन्हा ने करके नवाबी दौरों के इश्क को सजीव वर्णन कर डाला। इश्क पर जोर नहीं नाटक के प्रमुख कलाकारों में रोशनी की भूमिका में सोनम वर्मा ने जबरदस्त किरदार निभाया वही नवाब अनवर की भूमिका अभिषेक सिंह ने अदा की तो हकीम बब्बन खान की भूमिका में नाटक के निर्देशक अशोक सिन्हा स्वयं थे । फखरू हजाम केशव पंडित बने तो वहीं रोशनी का निकाह करने वाले काजी पुनीत अस्थाना की भूमिका भी काफी सराही गई। नाटक के प्रमुख किरदारों में सरगम अली भी रहे सरगम अली की भूमिका में हरीश बडोला रहे । पियर द मोमार्सिए लेखक ने उर्दू लिपि पर इस नाटक को बेहतरीन मोड़ दे रखा था । काफी सुखद अंत इस नाटक का रहा। कलाकारों ने हर पल नाटक के दर्शकों को बांधे रखा। ध्वनि प्रभाव ध्वनि कनिका बलानी का काफी प्रभावी। वही वेशभूषा रत्ना आनंद व मुख मनोज वर्मा की सराहनीय रही। प्रकाश व्यवस्था में एम हाफिज का भी प्रभाव दिखा।

नाट्य समारोह शुभारंभ मुख्य महाप्रबंधक संजय कुमार सिंह एवं गरिमा महिला मंडल की अध्यक्षा श्रीमती मधुलिका सिंह द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलन से किया गया। शुभारंभ के अवसर पर खचाखच भरे आडिटोरियम में टांडा विद्युतगृह के महाप्रबंधकगण, विभागाध्यक्ष, उप महाप्रबंधक, गरिमा महिला मंडल की सदस्याएं, संगीत नाटक अकादमी की ड्रामा सर्वेयर श्रीमती शैलजा पाठक एवं कलाकार प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।


इस अवसर पर मुख्य महाप्रबंधक श्री सिंह ने उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए उ0प्र0 संगीत नाटक अकादमी द्वारा नाट्य विधाओं को बढ़ावा देने एवं रंगकर्म को गति प्रदान करने की दिशा में किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि नाट्य विधा हमारे लोक जीवन का अत्यंत प्राचीन एवं अभिन्न हिस्सा है। उन्होंने यह भी कहा कि नाटक सभी साहित्यों में अत्यंत रमणीक एवं महत्वपूर्ण है जो हमारे जीवन को पूरी तरह रसरंजित, नैतिक एवं सद्चरित्र बनने की प्रेरणा देता है। उन्होंने अकादमी द्वारा एनटीपीसी-टांडा में नाट्य समारोह आयोजित किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की तथा इसकी सफलता की शुभकामनाएं दीं।


उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए शैलजा पाठक ने उ0प्र0 संगीत नाटक अगादमी द्वारा नाट्य विधाओं के परिवर्द्धन, संवर्द्धन एवं रंग कर्म को गति देने की दिशा में किए जा रहे प्रयासों की चर्चा करते हुए नाट्य कायक्रमों से सामाजिक एवं सांस्कृतिक क्षेत्र में पड़ने वाले सकारात्मक प्रभाव को संक्षेप में बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.